Active Directory क्या होता है?

Active Directory एक Microsoft की technology होती है जिसका उपयोग अपने computers और दुसरे devices को manage करने के लिए होता है एक network पर काम किया जाता है। .

यह एक primary feature भी होता है जो की Windows Server का और एक operating system जो की उसमे run होता है दोनों local और Internet-based servers पर होता है। .

Active Directory को भी allow करते हैं और network administrators को एक नेटवर्क पर सारे domains, users, और objects create और manage करने के लिए. किया जाता है उदाहरण के तौर पर, एक admin को आसानी से एक group को create कर सकता है और users की और उन्हें कुछ specific access privileges भी आसानी से प्रदान कर सकता है कुछ directories और एक ही server में होता है। .

जैसे-जैसे एक ये network grow करता है, उस Active Directory को भी प्रदान करता है एक ऐसा रास्ता जिससे की एक बड़े ही संख्या के users को भी व्यवस्थित किया जा सके वो भी logical groups और subgroups में किया जाता है, वही उन्हें access control भी आसानी से प्रदान किया जा सके प्रत्येक level के लिए किया जाता है। .

Active Directory meaning in hindi

कोई भी Active Directory के structure में मुख्य रूप से तीन ही main tiers होते हैं:

  1. Domains
  2. Trees
  3. Forests

बहुत से objects (जो की users या devices भी हो सकते हैं) जो की एक समान जैसा database का उपयोग करते हैं और उन्हें एक साथ group भी किया जा सकता है वो भी एक single domain में पर कर सकते है। .

कोई भी Multiple domains को एक साथ combine भी किया जाता है एक single group में जिसे की उसे एक tree भी कहा जाता है.

वही Multiple trees को एक साथ में सारे group किया जाता है वो भी एक collection तैयार करने में जिसे की एक forest भी कहा जाता है.

यहाँ पर प्रत्येक levels को एक specific access rights और communication privileges भी आसानी से प्रदान किया गया होता है.
Active Directory ऐसे बहुत से अलग-अलग services भी प्रदान करता है, जो सब की एक ही छाते “Active Directory Domain Services,” या AD DS के अंतर्गत सारे ही आते हैं.

चलिए इन सारे services के बारे में अच्छी से जानते हैं :

  1. Domain Services – ये एक store करता है और centralized data को manage भी करता है साथ में communication, users और domains के बीच में काम करता है। इसपर login authentication और search functionality भी शामिल होती है.

  2. Certificate Services – ये भी create करता है, distribute काम करता है और manage भी करता है secure certificates के लिए।.

  3. Lightweight Directory Services – ये भी support करता है और directory-enabled applications के लिए वो भी open (LDAP) protocol के मदद से काम करता है। .

  4. Directory Federation Services – ये भी प्रदान करता है single-sign-on (SSO) जिससे की ये authenticate आप कर सके एक user को multiple web applications में और वो भी एक single session में ही काम किया जाता है। .

  5. Rights Management – ये protect करता है copyrighted information को, इसके लिए ये digital content की unauthorized use और distribution को रोकता है.

AD DS को को भी include किया गया है और Windows Server (जिसमें की Windows Server 10 भी शामिल है) के साथ और इसे design भी किया गया है client systems को manage करने के लिए काम करता है।.

यदि कोई भी system है जो की Windows के regular version को ही run कर रहा है और इसमें administrative features कोई भी उपलब्ध नहीं हैं AD DS के, और तब भी support करते हैं Active Directory को इसका ये भी मतलब है की कोई भी Windows computer आप आसानी से उसे connect हो सकता है एक Windows workgroup के साथ, बस सर्त ये है की कोई भी user के पास correct login credentials होना बहुत ही जरुरी होता है.

Leave a Reply